प्रधानमंत्री से मध्यम वर्ग के व्यक्ति का एक अनुरोध

मुझे हमेशा से अपेक्षा थी एक ऐसे राजनैतिक नेतृत्व की जिसकी एक आवाज़ के साथ पूरा देश उठ खड़ा हो। 26 मई 2014 को जब नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो ऐसा भान हुआ था कि बरसों की आस पूरी हो गई है। स्वच्छता अभियान की मुहिम छिड़ी तो महसूस हुआ कि जनता गंदगी फैलाने से किंचित कतराने लगी है। विश्व की सर्वोच्च महाशक्ति का मुखिया जब हमारे प्रधानमंत्री जी को अपना दोस्त कहने लगा तो स्वाभिमान से सीना चौड़ा हो गया। लोकतंत्र के…

Read More